Life changing thoughts Self Motivation चुनौतियों का सामना करने से पहले उसे समझने की कोशिश करिए

चुनौतियों का सामना करने से पहले उसे समझने की कोशिश करिए

कई बार लोग कहते हैं कि हम जिस नज़रिए से रियलिटी को देखते हैं. हमें सिचुएशन वैसी ही नज़र आने लगती है. लेकिन क्या हो अगर रियलिटी ही प्रॉब्लम हो. इसे हम इस उदाहरण से समझ सकते हैं. मान लीजिए कि आपका बॉस सच में अनसपोर्टिव हो, या फिर आपके ऑफिस का वर्क लोड सच में बहुत ज्यादा हो. या फिर ऑफिस में आपके प्रमोशन का रास्ता सच में ब्लॉक हो.

इन सभी केसेज में प्रॉब्लम रियलिटी की तरफ गलत नज़रिया नहीं है. बल्कि खुद रियलिटी ही एक बड़ी प्रॉब्लम है. इस तरह की सिचुएशन में भले ही आप अपने नज़रिए को कितना भी बदल लें? लेकिन उससे प्रॉब्लमस रत्ती भर भी कम नहीं होंगी.

क्या आपने कभी बैकपैक बैग अपनी पीठ में कैरी किया है? अगर किया है तो आपको पता होगा कि कभी-कभी तो वो आपको काफी हल्का महसूस होता होगा. लेकिन जब आप थके हुए होते होंगे, तब उसी बैग का वजन आपकी जान लेने वाला लगता होगा.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

“जैसे! ” सिद्धांत का इस्तेमाल करें ।“जैसे! ” सिद्धांत का इस्तेमाल करें ।

“जैसे! ” सिद्धांत का इस्तेमाल करें । कई साल पहले मशहूर मनोवैज्ञानिक विलियम जेम्स ने अपने मशहूर “जैसे सिद्धांत की घोषणा की। उन्होंने कहा, “अगर आप अपने भीतर कोई गुण