20220503_071642

आपने शायद यह रियलाइज़ ना किया हो लेकिन अटेंशन दो तरह की होती है, वॉलिंटियर और रिफ्लेक्सिव. किसी चीज पर आपका ध्यान खुद ब खुद चला जाता है उसे रिफ्लेक्सिव कहते हैं और जिस चीज पर आप जानबूझकर ध्यान डालते हैं उस अटेंशन को वॉलेंटियर कहते हैं. फिलहाल अपने ध्यान को इस समरी की तरफ मोड़ कर आप वॉलिंटियर अटेंशन एक्सपीरियंस कर रहे हैं. और रिफ्लेक्सिव अटेंशन उसे कहते हैं जब बिना किसी एफर्ट के आपका ध्यान किसी तरफ चला जाता है जैसे जब कोई आपका नाम बुलाता है. लेकिन आप अपने वॉलिंटियरी अटेंशन को स्ट्रांग और रिफ्लेक्सिव अटेंशन को वीक कर सकते हैं.

पहला स्टेप अपने डिजिटल डिस्ट्रैक्शन को दूर करना है. 1960 में रशियन साइकोलॉजिस्ट Bluma zeigarnik द्वारा की गई एक रिसर्च से पता चलता है कि जब तक कोई काम पूरा नहीं होता हमारा दिमाग साइकिक(psychic) एंग्जाइटी से गुज़र रहा होता है. चूंकि आपका दिमाग किसी भी तरह के डिस्ट्रैक्शन को एक अनकंप्लीट टास्क की तरह समझता है, इसलिए जब आप इन डिस्ट्रक्शन से दूर रहते हैं तो खुश रहते हैं.

सोशल मीडिया नोटिफिकेशन बंद कर दीजिए, चैटिंग के लिए लिमिटेड टाइम रखिए, न्यूज़लेटर्स को अनसब्सक्राइब कर दीजिए और टीवी थोड़ा सा कम देखिये. क्यों ना आप अभी से शुरुआत करें 1 घंटे के लिए इन सभी डिस्ट्रैक्शन से दूर हो जाइए और एक घंटे बाद हफ्ते और आगे के लिए अपना शेड्यूल बना लीजिए.

जब आपके यह डिस्ट्रैक्शंस कम हो जाएंगे तो आपके पास मेडिटेशन के लिए वक्त होगा आप आसानी से अपने दिमाग को ज़्यादा फोकस करने के लिए ट्रेन कर सकेंगे. माइंड हैकिंग के लिए इस तरह की कंसंट्रेशन ट्रेनिंग बहुत जरूरी है.

कोई कम्फर्टेबल पोज़िशन तलाशिये. उस पोजीशन में जाकर अपनी आंख बंद करिए और सांसों पर फोकस कीजिए. अगले कुछ मिनट के लिए अपनी बॉडी को एकदम रिलैक्स कर दीजिए और अपने सर से पांव तक एक तरह से बॉडी को स्कैन कीजिए, और फिर वापस आ जाइए अगले 20 मिनट तक अपनी सांसो पर फोकस कीजिए. यह आपका कंसंट्रेशन बढ़ाता है. जब भी आपका ध्यान भटकने लगे उसे अपनी सांसो पर वापस ले आइये. अब फर्ज कीजिए कि आपका फोकस स्ट्रांग होता जा रहा है और आपका मन भटकना कम हो गया है.

इस कंसंट्रेशन ट्रेनिंग को अपनी आदत बनाने के लिए आप हर मेडिटेशन के बाद अपने आप को कुछ रिवॉर्ड दे सकते हैं. इसके लिए आपको कंसिस्टेंट रहना होगा. हर रोज किसी एक टाइम पर मेडिटेट कीजिए. रोज सुबह उठ कर अपने बेडरूम में आप यह कंसंट्रेशन जॉइनिंग कर सकते हैं इसके लिए आप अलार्म सेट कर सकते हैं और हर रोज ट्रेनिंग कंप्लीट करने के बाद अपने आप को कॉफी, शावर या फिर छोटा सा नैप जैसा कुछ रिवॉर्ड दीजिए.

शुरुआत में यह थोड़ा मुश्किल हो सकता है लेकिन वक्त के साथ आसान हो जाएगा. आप अपने दिमाग की ड्राइविंग सीट पर आ जाएंगे और एनालाइज करके अपने हिसाब से चेंजेज़ कर सकेंगे. इस बारे में डिटेल से हम आगे जानेंगे.

 

By REEMA SRIVASTAVA

I AM MUKESH KUMAR SRIVASTAVA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *