Life changing thoughts Moral of the Story कान्हा पर भरोसा 🙏

कान्हा पर भरोसा 🙏

एक बार,एक’अत्यंत गरीब” महिला,जो “कान्हा” पर,बेइंतिहा “विश्वास”करती थी !!!
अत्यंत ही,विकट स्थिति में आ गई !!!!!
कई दिनों से खाने के लिए,पूरे परिवार को नहीं मिला !!!

एक दिन,उसने रेडियो के माध्यम से,”कान्हा”को,अपना सन्देश भेजा, कि वह उसकी मदद करे !!!
यह प्रसारण,एक”नास्तिक, घमण्डी,और अहंकारी”,” उद्योगपति” ने,सुना !!!!

और उसने सोचा कि, क्यों न, इस महिला के साथ, कुछ ऐसा “मजाक”किया जाये,कि उसकी “कृष्ण”के प्रति”आस्था”, डगमगा जाये !!!!
उसने,अपने”सेक्रेटरी”को कहा, कि वह,”ढेर सारा खाना”और”महीने भर का राशन”,उसके घर पर,देकर आ जाये !!!!

और जब वह महिला पूछे,किसने भेजा है ??? तो,कह देना,कि
“शैतान” ने भेजा है !!!
जैसे ही,”महिला”के पास,सामान पंहुचा !!!! पहले तो,उसके” परिवार”ने,तृप्त होकर,भोजन किया !!!!
फिर, वह सारा राशन,”अलमारी” में रखने लगी !!!

जब,”महिला”ने पूछा नहीं कि, यह सब किसने भेजा है ????
तो,”सेक्रेटरी”से रहा नहीं गया, और पूछा !!!!
आपको क्या”जिज्ञासा” नहीं होती कि, यह सब किसने भेजा है ???
उस”महिला” ने,”बेहतरीन” जवाब दिया !!!
मैं इतना क्यों सोंचू,या पूंछू ??

मुझे, मेरे “कान्हा”पर,”पूरा भरोसा” है !!!!
मेरा”कृष्ण”,जब आदेश देता है,
तो,”शैतानों”को भी,उस”आदेश”का, पालन करना पड़ता है
हरे कृष्णा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

कहानी एक सही मार्गदर्शन और हौसलें की।कहानी एक सही मार्गदर्शन और हौसलें की।

एक गाँव में एक गरीब परिवार रहता था।परिवार मे माँ, पिता और उनकी एक बेटी थी।उसका नाम संध्या था।संध्या बहुत ही बुद्धिमान, ईमानदार और एक गुणी लड़की थी। वह पढ़ाई

तीनों ने मिलकर तय किया कि इस बार दादी को भी लेकर चलेंगे।तीनों ने मिलकर तय किया कि इस बार दादी को भी लेकर चलेंगे।

*छोटे ने कहा,” भैया, दादी कई बार कह चुकी हैं कभी मुझे भी अपने साथ होटल ले जाया करो.” गौरव बोला, ” ले तो जायें पर चार लोगों के खाने