20221211_133010

एक रिटायर्ड अधिकारी को अपने ऑफिस जाने की जिज्ञासा हुई। वह अपने मन में बड़े-बड़े सपने लेकर जैसे कि :- मैं जब ऑफिस पहुंचूँगा ।

तो सभी अधिकारी एवं कर्मचारी मेरा बढ़-चढ़कर स्वागत करेंगे तत्काल अच्छा नाश्ता मंगाया जाएगा आदि आदि। ऐसा सोचते सोचते वह अपने वाहन से ऑफिस जा रहा था।

जैसे ही गेट पर पहुंचा तो गार्ड ने रोका और कहा कि “आप अंदर जाने से पहले गाड़ी बाहर ही साइड पर लगा दें”। इस पर अधिकारी भौचक्का रह गया, और कहा कि “अरे! तुम जानते नहीं हो, मैं यहां का ऑफिसर रहा हूं। गत वर्ष ही रिटायर हुआ हूं”।

इस पर गार्ड बोला- “तब थे, अब नहीं हो। गाड़ी गेट के अंदर नहीं जाएगी”।
अधिकारी बहुत नाराज हुआ और वहां के अधिकारी को फोन कर गेट पर बुलाया। अधिकारी गेट पर आया

और रिटायर्ड चीफ ऑफिसर को अंदर ले गया। गाड़ी भी अंदर करवाई और अपने चेंबर में जाते ही वह चेयर पर बैठ गया ।
और चपरासी से कहा- “साहब को जो भी कार्य हो, संबंधित कर्मचारी के पास ले जाकर बता दो”।

चपरासी साहब को ले गया और संबंधित कर्मचारी के काउंटर पर छोड़ आया। चीफ साहब अवाक से खड़े सोचते रहे।
कार्यालय आते समय जो सपने संजोए थे, वह चकनाचूर हो चुके थे। पद का घमंड धड़ाम हो चुका था। वह घर पर चले आए।

काफी सोचने के बाद उन्होंने अपनी डायरी में लिखा-
“एक विभाग के कर्मचारी शतरंज के मोहरों की तरह होते हैं। कोई राजा कोई वजीर कोई हाथी घोड़ा, ऊंट तो कोई पैदल बनता है।
खेलने के बाद सभी मोहरों को एक थैले में डालकर अलग रख दिया जाता है।

खेलने के बाद उसके पद का कोई महत्व नहीं रह जाता है। अतः इंसान को अपने परिवार और समाज को नहीं भूलना चाहिए। कितने भी ऊंचे पद पर पहुंच जाओ लौटकर अपने ही समाज में आओगे।”

सीख:-समाज से वास्ता हमेशा बनाये रखें, आपके कद और पद की गरिमा बनी रहेगी ।
🌹🙏🏻😇

By REEMA SRIVASTAVA

👈 अगर आप भी इंस्ट्राग्राम से पैसा कमाना चाहते तो ब्लॉग में मीडिया पर जा कर पढ़ सकते E-Book वो भी बिल्कुल Free ) Follow 👉GyanBajar और वीडियो देखने के लिए विजिट करे my यूट्यूब चैनल TheBooksClubMukeshsrivastava और मेरे इंस्टाग्राम india.share.knowledge पर और मेरे FaceBook पेज Life Changing Thoughts par धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *