Life changing thoughts Moral of the Story बच्चों और उनके पैरेंट्स या दूसरे देखभाल करने वालों के बीच रिश्ते को अटैचमेन्ट कहते हैं। The relationship between children and their parents or other caregivers is called attachment.

बच्चों और उनके पैरेंट्स या दूसरे देखभाल करने वालों के बीच रिश्ते को अटैचमेन्ट कहते हैं। The relationship between children and their parents or other caregivers is called attachment.

  • बच्चों और उनके पैरेंट्स या दूसरे देखभाल करने वालों के बीच रिश्ते को अटैचमेन्ट कहते हैं।

  • ज़्यादातर लोगों के बचपन की यादों में सिर्फ वही शख्स होता है जिसने बचपन में उनकी देखभाल की थी। ज़्यादातर लोगों की देखभाल उनकी माँ करती हैं। बच्चों और उनकी देखभाल करने वालों के बीच इस खास रिश्ते को अटैचमेंट कहते हैं। अटैचमेंट का रिश्ता बच्चों की ज़िन्दगी के पहले साल से ही शुरू हो जाता है। क्योंकि छोटे बच्चे खुद से अपनी देखभाल नहीं कर सकते , इसलिए इस रिश्ते की उन्हें बहुत ज़रुरत होती है। ज़िन्दगी के पहले कुछ हफ़्तों में बच्चे किसी को नहीं पहचानते। धीरे-धीरे वो चेहरों को पहचाने और उनमें अंतर करना सीखते हैं।अटैचमेंट की शुरुवात तब होती है जब बच्चे अपनी देखभाल करने वाले के पास न होने पर दुखी हो जाते हैं।

  • बंदरों पर की गयी एक स्टडी में पाया गया कि बच्चों के लिए खाने से ज़्यादा ज़रूरी उनकी देखभाल और अटैचमेंट होती है। इस स्टडी में एक बन्दर के बच्चे को उसकी माँ से अलग कर एक पिंजरे में रख दिया गया जिसमें दो नकली बन्दर थे। एक बन्दर को मुलायम कपडे़ से लपेटा गया जबकि दूसरे में दूध के लिए एक निप्पल लगाया गया। ऐसा करने पर ये पाया गया कि बन्दर का बच्चा ज़्यादातर समय उस मुलायम कपडे वाले बन्दर के साथ बिताता था और निप्पल वाले बन्दर के पास सिर्फ दूध पीने ही जाता था।

  • अटैचमेंट एक ऐसा रिश्ता है जिसे हर किसी ने महसूस किया है। पर इसे लेकर बहुत सी विवादित बातें भी है, जिसे मानने वाले लोग पैरेंट्स को इसमें ढ़केलते रहते हैं। आने वाले सबक़ में हम इन बातों पर एक नज़र डालेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

अब बताओ डिप्रेशन कैसा है ?*अब सज्जन को समझ आ गई की
उसे कोई *बीमारी नहीं*।अब बताओ डिप्रेशन कैसा है ?*अब सज्जन को समझ आ गई की
उसे कोई *बीमारी नहीं*।

डिप्रेशन ग्रस्त एक सज्जन जब 50 साल के हुए थे तो उनकी पत्नी ने सायक्लोजिस्ट का appointment लिया जो अपने शहर के बहुत प्रसिद्ध मनोवैज्ञानिक भी थे । रूबरू होने

ये कहानी है,दो परिवारों की
(आपने उन्हे कैसे संस्कार दिए है)ये कहानी है,दो परिवारों की
(आपने उन्हे कैसे संस्कार दिए है)

जो एक ही शहर मे रहते है,लेकिन दोनो परिवारों का घर शहर के अलग अलग इलाके मे है।दोनो परिवारों मे मा,बाप,बेटा,बेटी ऐसे चार लोग रहते है।दोनो ही परिवार एक अच्छा